Home » हो सके तो मितवा

हो सके तो मितवा

by Dr. Awadhesh Tiwari
Mittwa if possible love couple
110 Views

हो   सके  तो आज  मितवा 
साथ  मेरे  मुस्कराना ,
है   बहुत   मुश्किल  किसी   के
गम  को  जा करके  बँटाना ।

गुनगुना  लूँ  लाख  चाहे
गीत     मैं  श्रृंगार   के ,
पर  नहीं  मिलती  तसल्ली
बिन  सजनि   के प्यार  के ।

एक  थपकी  गात   पर
आज   तुम  मेरे सजाना ,
हो सके  तो  आज  मितवा
साथ   मेरे  मुस्कराना ।

देख    अम्बर   की   खुशी    को
धरती   का   आँचल   हरा    हो ,
क्या  पता    हर    बूँद    में   इक
प्यार   का    बादल    भरा    हो ।

हो  सके  तो आज मेघा
जम   के जल  बरसाना ,
हो  सके  तो आज  मितवा
साथ    मेरे    मुस्कराना ।

मन      मेरा   पहले    कभी
आज     सा  उन्मत्त  न  था ,
इच्छाओं    का  ऐसा  कभी
छाया   हुआ  तूफान  न  था ।

तुम  गले मुझको  लगा  कर
हौसला        मेरा   बढ़ाना ,
हो    सके  तो आज  मितवा
साथ    मेरे   मुस्कराना ।

राग  से   भर  उठी  देखो
प्यार  की   ये   बांसुरी ,
धुन   निकलने  अब लगी  है
फिर  से  देखो  मद  भरी ।

“भावुक”  फ़िज़ाओं  में  गूँजता
अब     तुम्हारा  ही  तराना ,
हो   सके  तो आज  मितवा
साथ    मेरे     मुस्कराना । 

Spread the love

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy