बेटी – जीवन की पूँजी

by Dr. Awadhesh Tiwari
0 comment
71 Views

मानव    झूठी   मर्यादा      हित
वंश-बेल  को   काट   रहा     है ,
मात्र   एक   फल  की चाहत  में
पूरा    बाग़    उजाड़  रहा     है ।

पुष्प   धरा   पर  नहीं  रहा   तो
कैसे  ?   फल    को     पाओगे ,
अंश     मार    करके     अपना
कैसे   ?     वंश         बढ़ाओगे ।

जब   तुम    बूढ़े    हो   जाओगे
साथ      नहीं      बेटा     देगा  ,
नहीं   मिलेगी    बेटी  भी   तब
बोलो  !  कैसे  ?  चैन   मिलेगा ।

कन्या – भ्रूण    नष्ट    करो  न
दुनिया   में   उनको   आने   दो ,
बनकर   फूल   खिलें उपवन  में
जीवन     उनको    पाने      दो  ।

“भावुक” कहते  खुद को  बदलो
सोच       हमारी       हेटी      है ,
जग   में   रोशन   नाम    करेगी
जीवन     की   पूँजी   बेटी     है ।

Spread the love

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy